मंगलवार, 13 मार्च 2012

बेटियों को नेमत समझें ....

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
कोई बिटिया मां के आंचल में छिपी कोई मेरे कांधे चढ़ी,
मैं इनकी हंसी के बीच यूं सदा हंसता खिलखिलाता रहा ।

खबर पढ़ता कोई बुरी अखबार में या सुनता कहीं तो
मैं रह-रह के वक्‍त और हालात पर तिलमिलाता रहा ।

कोई मासूम जान आने से पहले धरा पर कत्‍ल होती, 
तब-तब कोई आंसू मेरी आंख में झिलमिलाता रहा ।

निशाने पे जाने कितनी और ज़ाने होंगी अभी यहां,
बेबसी पर उनकी मेरा अन्‍तर्मन बिलबिलाता रहा ।

इरादों को इनके नेक नीयत बख्‍श दे या खुदा अब तो,
बेटियों को नेमत समझें मन में ये इल्‍तज़ालाता रहा ।

16 टिप्‍पणियां:

  1. बेटियों को नेमत समझना ही चाहिये।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर भावनाएं ...
    जाने वो दिन कब आएगा...
    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल 15/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इरादों को इनके नेक नीयत बख्‍श दे या खुदा अब तो,
    बेटियों को नेमत समझें मन में ये इल्‍तज़ालाता रहा ।
    .....बहुत सारे लोगों की मनोकामना जुडी है आपसे ...काश ! बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर भाव दर्शाती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है बेटिया तो वरदान होती है..सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेशक.....इन नेमतों पर हमें नाज है....ये धरती की आब हैं....!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. नवाज देवबंदी की दो लाइनें याद आ रही हैं..

    वो रुलाकर हस ना पाया देर तक
    जब मैं रोकर मुस्कुराया देर तक

    नाहलक बेटे तो दर्दे सर बनें
    बेटियों ने सर दवाया देर तक

    उत्तर देंहटाएं
  9. behtreen prastuti, sundar aur bhavpurn kavita.
    Betiyan ghar ki raunak hain,
    Salute to you!

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाव भरी रचना ह्रदय को छू गई,अति सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं