सोमवार, 26 जुलाई 2010

जादू की परियां .....









crk dSls lqukÅa eSa rq>dks dgkuh dksbZ]

jgrk ;gka uk jktk gS vc uk jkuh dksbZ A

tknw dh ifj;ka ugha vkrh vc bl ns'k]

dgrk ugha mudh Hkh ;gka dgkuh dksbZ A

lR; dh ifjHkk"kk nsrs gq;s dgrs gSa yksx]

ugha gS u gksxk gfj'kpUnz lk nkuh dksbZ A

>qdk ysrk oDr gj fdlh dks vius vkxs]

u fVd ldk gS blds vkxs vfHkekuh dksbZ !

6 टिप्‍पणियां:

  1. क्या लिखा है, समझ में नहीं आ रहा..पर चित्र सुन्दर है.
    _____________________
    'पाखी की दुनिया ' में बारिश और रेनकोट...Rain-Rain go away..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लगता है कुछ फॉण्ट की गड़बड़ है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग पार आना हुआ

    उत्तर देंहटाएं