रविवार, 21 मई 2017

परवाह का आँचल !!!

माँ होती है 
एक साया आसमान जैसे 
कहीं भी रहो
उसकी परवाह का आँचल 
सदा साथ रहता है !!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें