मंगलवार, 12 अक्तूबर 2010

पलकों को बन्‍द करके ......


मैं भी ढूंढूगीं नन्‍हीं हथेलियों से

पलकों को बन्‍द करके बोली वो ।

छुपन-छुपाई खेल भाया है मन को,

दो, पांच, दस जल्‍दी गिनके बोली वो।

नहीं दिखता मुझे कोई यहां पर,

जाने कहां छुपा है हमजोली वो ।

कहां चले गये सब भइया आओ न,

दिखते नहीं हो पुकार के बोली वो ।

झांका उसने घुटनों के बल बैठ कर,

कभी फर्श पे लेट कर थक के बोली वो ।

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर .... प्यारी सी पंक्तियाँ हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यारी गुडिया की प्यारी सी बात.... ढूँढने के लिए तो मेहनत करनी हो न :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. छुपन-छुपाई खेल तो मुझे भी बहुत अच्छा लगता है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम बच्चों का मन पसंद खेल है यह तो ....और इस सुन्दर कविता के तो क्या कहने
    नन्ही ब्लॉगर
    अनुष्का

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस कोमल एहसास के क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर बाल कविता है!
    --
    आपकी पोस्ट की चर्चा बाल चर्चा मंच पर भी की गई है!
    http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/23.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर , मासूम सी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस कली को बहुत सारा प्यार और आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. “नन्हें दीपों की माला से स्वर्ण रश्मियों का विस्तार -
    बिना भेद के स्वर्ण रश्मियां आया बांटन ये त्यौहार !
    निश्छल निर्मल पावन मन ,में भाव जगाती दीपशिखाएं ,
    बिना भेद अरु राग-द्वेष के सबके मन करती उजियार !! “

    हैप्पी दीवाली-सुकुमार गीतकार राकेश खण्डेलवाल

    उत्तर देंहटाएं